coronavirus update
दिल्ली

कोरोना अब जुकाम जैसा सामान्य फ्लू, यह 10 साल तक घटता-बढ़ता रहेगा; यही प्राकृतिक वैक्सीनेशन

देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 13 हजार नए मरीज मिले हैं। ये सवाल फिर उठने लगा है कि क्या चौथी लहर आ रही है? इस बारे में भास्कर ने हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के वैज्ञानिक डॉ. राम एस. उपाध्याय से बातचीत की। डॉ. राम का कहना है कि कोरोना अब जुकाम जैसा सामान्य फ्लू है। यह 10 साल तक कहीं नहीं जाने वाला। जैसे-जैसे मरीज बढ़ते रहेंगे, नेचुरल वैक्सीनेशन होता रहेगा। यही असली कोरोनाकवच है।
लॉकडाउन की जरूरत नहीं, लेकिन मास्क पहनते रहना होगा

हर 4-6 महीने में केस क्यों बढ़ने लगते हैं?
कोरोना वायरस पहले जानवरों के शरीर में उन्हें बिना नुकसान पहुंचाए रहता था। अब इसे इंसानी शरीर मिल गया है। यह ज्यादा से ज्यादा इंसानों में रहने के लिए खुद को विकसित कर रहा है। इस वजह से अल्फा, डेल्टा, ओमिक्रॉन जैसे वैरिएंट आ रहे हैं।

मरीज फिर बढ़ रहे हैं। यह स्थिति कितनी खतरनाक है?
भले ही संक्रमण दर बढ़ जाए, पर इसकी मारक क्षमता कम हुई है। वायरस खुद भी नहीं चाहता कि वह अपने ही होस्ट को खत्म कर दे। ऐसे में डरने वाली बात नहीं है। हालांकि, जिन लोगों को पहले से कोई बीमारी है, उन्हें सावधान रहना होगा। क्योंकि, वायरस से तो उन्हें कोई नुकसान नहीं होगा, पर दूसरी बीमारियांे का असर बढ़ सकता है।


ये स्थिति कब तक रहेगी?

10 साल तक वायरस के अलग-अलग वैरिएंट आते रहेंगे। लेकिन, खांसी-जुकाम जैसी बीमारी ही होगी।
{क्या लॉकडाउन जैसी स्थिति फिर आ सकती है?
हमें मास्क पहनने से परहेज नहीं करना चाहिए। लेकिन, लॉकडाउन की आशंका कतई नहीं है।

क्या नई वैक्सीन की जरूरत पड़ेगी?
नहीं। वायरस का आना-जाना एक तरह का प्राकृतिक वैक्सीनेशन है, जो हर 6 महीने-साल भर में हमें मिलता रहेगा। इससे हमारी इम्यूनिटी मजबूत होगी।
कोरोना फिर बढ़ने लगा, पर इसे चौथी लहर की आहट न कहें

Leave a Reply

Your email address will not be published.