BJP workers conference
चुनाव

बालाघाट में फ्लॉप रहा भाजपा का कार्यकर्ता सम्मेलन, सैकड़ों कुर्सियां पड़ी रहीं खाली

बालाघाट। मुलना स्टेडियम में पूरे तामझाम के साथ भाजपा ने संसदीय स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित किया। इस आयोजन को सफल बनाने और पूरे कार्यक्रम की अगुवाई की जवाबदारी सांसद बोधसिंह भगत के जिम्मे थी। संसदीय क्षेत्र के सभी मतदान केन्द्रों के कार्यकर्ताओं को एकत्रित कर उन्हें आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए पूरी तरह अपडेट करना इस कार्यकर्ता सम्मेलन का मूल उद्देश्य था। संसदीय क्षेत्र के सभी 7 विधानसभाओं के सभी मतदान केन्द्रों के कार्यकर्ताओं को इस सम्मेलन में लाने के लिए उनके आवागमन के साधन की व्यवस्था की जिम्मेदारी सांसद बोधसिंह भगत की थी, लेकिन कार्यकर्ताओं के लिए आवागमन के माकूल इंतजाम नहीं होने के कारण सांसद के नेतृत्व वाला यह कार्यकर्ता सम्मेलन शो पूरी तरह सुपर फ्लॉप रहा।

कुल 2300 मतदान केन्द्रों के 5000 से ज्यादा कार्यकर्ता, पहुंचे करीब 1200
कार्यकर्ता सम्मेलन में संसदीय क्षेत्र के लगभग 2300 मतदान केन्द्रों के 5000 से भी ज्यादा भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ता हैं, जिन्हें एकत्रित करने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन सांसद बोधसिंह भगत की बद इंतजामी के कारण करीब 1200 कार्यकर्ता ही बमुश्किल अपनी उपस्थिति दर्ज करा सके। इस कार्यकर्ता सम्मेलन में जाकर जब हकीकत जानी गई तो पता चला कि यहां सम्मेलन में आए करीब 1200 भाजपा कार्यकर्ताओं में ज्यादातर कार्यकर्ता बालाघाट विधानसभा क्षेत्र के लालबर्रा ब्लाक से आए थे। जिनमें से हर दूसरा तीसरा भाजपा कार्यकर्ता लालबर्रा क्षेत्र का दिखाई दे रहा था।

पता चला कि इस कार्यक्रम में पंडाल, कुर्सियां, साऊंड सिस्टम और भोजन व्यवस्था की पूरी जिम्मेदारी बालाघाट विधायक और पूर्व कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन निभा रहे थे। पंडाल व्यस्थित लगा हुआ था, यहां लगभग 1500 करीब कुर्सियां लगवाई गई थीं, साथ ही स्टेडियम में बनाई गई भोजशाला में लगभग 7000 लोगों के लिए भोजन पानी की समुचित व्यवस्था की गई थी। टेंट वाले ने पूछने पर बताया कि पंडाल के पीछे खड़े ट्रक में 5000 से ज्यादा कुर्सियां कार्यक्रम के लिए रखी गई हैं जरूरत पड़ने पर उन्हें पंडाल में लगा दिया जाएगा।

इस कार्यकर्ता सम्मेलन के मुख्य अतिथि भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह अपने तय समय के अनुसार 11.30 बजे सर्किट हाऊस पहुंच गए थे लेकिन कार्यकर्ताओं की कमी के कारण 2.15 तक इन्हें इंतजार करना पड़ा। संसदीय क्षेत्र की सभी 7 विधानसभाओं के मतदान स्तरीय कार्यकर्ताओं को सम्मेलन में लाने के लिए सांसद भगत को वाहनों का इंतजाम करना था लेकिन कार्यकर्ताओं को एकत्रित करने के लिए सांसद भगत पर्याप्त वाहनों की व्यवस्था नहीं कर पाए। वहीं बालाघाट विधानसभा क्षेत्र में विधायक गौरीशंकर बिसेन द्वारा कार्यकर्ताओं के पहुंचने के लिए बाइकों की व्यवस्था की गई थी। बालाघाट विधानसभा क्षेत्र के करीब 160 मतदान केन्द्रों से 600 से ज्यादा कार्यकर्ता इस सम्मेलन में उपस्थित हुए थे।

किसान आंदोलन में 10 हजार किसानों ने दी थी गिरफ्तारी
25 फरवरी को नगर मुख्यालय में स्थानीय विधायक एवं पूर्व कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन के नेतृत्व में हुए किसान आंदोलन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन और अन्य भाजपा के पूर्व व वर्तमान विधायकों समेत लगभग 10 हजार कार्यकर्ताओं ने अपनी गिरफ्तारी दी थी। 2500 रूपये धान की कीमत और कर्जमाफी को लेकर हजारों की संख्या में किसानों ने इस आंदोलन में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी। 2500 धान की कीमत और हर किसान का कर्ज माफी समेत अनेकों समस्याओं और मांगों को लेकर मुलना स्टेडियम मैदान में पूर्व मुख्यमंत्री और शिवराज सिंह चौहान की अगुवाई, पूर्व कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन के नेतृत्व में यह भव्य किसान आंदोलन सफल रहा। जिसकी प्रशंसा और इस आंदोलन की सफलता की तारीफ खुद शिवराज सिंह चौहान ने सभी के सामने की थी।

रिपोर्ट: रितेश सोनी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *