heavy rain
इंडिया न्यूज़

पहले खूब तरसाया… अब मानसून कहीं-कहीं दोगुनी बारिश करा रहा

मानसून रविवार को देश के 50% हिस्से में छा गया। खास बात यह है कि मानसून पहुंचने के बाद कुछ जगह दोगुनी बारिश हो रही है। विशेषज्ञों का कहना है कि अगर यही ट्रेंड जारी रहता है तो देशभर में सामान्य से ज्यादा बारिश होगी। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि मानसून के पैटर्न में कुछ वर्षों से एक बड़ा बदलाव आया है। पहले जितनी बारिश एक महीने में होती थी, अब हफ्तेभर में हो रही है।

पहले धीमी रफ्तार में व्यापक इलाके में बारिश होती थी, अब किसी सीमित इलाके में बहुत ज्यादा बारिश हो रही है। यह क्लाइमेट चेंज का असर है। उदाहरण के लिए तमिलनाडु में अब तक सामान्य से 72% ज्यादा बारिश हो चुकी है, जबकि केरल में 57% कम बारिश हुई है। इसी तरह मेघालय में सामान्य से 3 गुना, असम में 2 गुना ज्यादा बारिश हो चुकी है, जबकि पड़ोसी राज्य मणिपुर में अभी 28% बारिश कम हुई है।

12 जून: औसत बारिश 40.1 मिमी, हुई 23 मिमी, यानी 43% की कमी
उत्तर-पश्चिम भारत-89%
पूर्व और उत्तर-पूर्व-5%
मध्य भारत -78%
दक्षिण भारत-38%
यहां मानसून झमाझम
मेघालय+185%
असम+109%
तमिलनाडु+72%
प. बंगाल+13%
यहां मानसून कमजोर
केरल-57%
महाराष्ट्र-56%
तेलंगाना-26%
कर्नाटक-26%

19 जून: औसत बारिश 86.7 मिमी,हुई 79.9 मिमी, यानी 8% की कमी

उत्तर पश्चिम भारत+33%
पूर्व और उत्तर-पूर्व+48%
मध्य भारत -48%
दक्षिण भारत -22%

श्रीनगर| कश्मीर की पहाड़ियों पर शनिवार रात अचानक बर्फबारी हुई। श्रीनगर जैसे निचले इलाकों में बारिश हुई। बर्फबारी की वजह से घाटी का तापमान सामान्य से 3 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया। गुलमर्ग में अधिकतम तापमान 13 डिग्री दर्ज हुआ।

स्काइमेट: बारिश का अनुमान बढ़ा
मौसम एजेंसी स्काईमेट के विज्ञानी महेश पलावत ने बताया कि मानसून जून के दूसरे पखवाड़े में मध्य भारत पहुंचता है, जो कि समय पर है। इस महीने के आखिर तक मानसूनी बारिश होती रहेगी। अप्रैल में हमारा अनुमान था कि जून में 98% बारिश रहेगी, लेकिन अब लगता है कि 110% तक होगी।

असम में नुकसान जारी: बाढ़ से अब तक 62 मौतें हो चुकी हैं। 32 जिलों के 31 लाख लोग प्रभावित हैं।
देश में सिर्फ एक हफ्ते में यूं बदली बारिश की स्थिति
आधे देश में छाया मानसून, बारिश अनुमान से ज्यादा
मौसम की सिल्वरलाइन… कश्मीर में अचानक बर्फबारी से ठंडी हुईं हवाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published.