INDIA NEWS

#MeToo: आरोपों पर अकबर ने कहा-‘छवि बिगाड़ने की कोशिश, करूंगा कानूनी कार्रवाई’

नई दिल्ली। यौन उत्पीड़न के खिलाफ चल रही सोशल मीडिया कैंपेन ‘मी टू’ अभियान के तहत आरोप झेल रहे केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर मीडिया के सामने आए। उन्होंने कहा कि मेरे खिलाफ लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद, झूठा और मनगढ़ंत हैं।

एमजे अकबर ने कहा कि मैं इस मामले पर पहले जवाब नहीं दे सका, क्योंकि मैं आधिकारिक दौरे पर विदेश में था। उन्होंने महिलाओं के खिलाफ कार्रवाई करने की धमकी दी है।

अकबर ने बयान जारी कर कहा कि इन आरोपों से मेरी छवि खराब करने की कोशिश की गई है। उन्होंने कहा कि साक्ष्य के बिना आरोप कुछ वर्गों के बीच एक वायरल बुखार बन गया है। उन्होंने सवाल उठाया कि ‘आम चुनाव से ठीक पहले इस तरह का तूफान क्यों उठा है।

इसके पीछे क्या एजेंडा है, इन झूठे, आधारहीन और वाहियात आरोपों ने मेरी प्रतिष्ठा और साख को खराब करने की कोशिश की गई है। अकबर ने कहा कि झूठ के पैर नहीं होते हैं, जिसे एक पागलपन में किसी पर भी मार दिया जाता है। यह बहुत ही चिंताजनक है। मैं उचित कानूनी कार्रवाई करूंगा।

पढ़ें: अमित शाह का राहुल पर हमला, ‘राजा, महाराजा और कारोबारी के दम पर चुनाव नहीं जीत सकती कांग्रेस’

अकबर ने 20 साल बाद आरोप लगाने पर भी सवाल करते हुए कहा कि कई महिलाओं ने तो 20 साल पुरानी बातों का जिक्र किया है, वो महिलाएं अब तक क्यों चुप थीं। जिस वक्त उत्पीड़न के आरोप लगाए गए हैं, उसके बाद भी मैंने कई महिलाओं के साथ काम किया है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ये सभी आरोप झूठे, प्रेरित और पूरी तरह से निराधार हैं। गौरतलब है कि केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर ने इस्तीफा नहीं दिया है। हालांकि पहले ऐसी अटकलें थीं कि उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया।

आपको बता दें कि एमजे अकबर कई अखबारों के संपादक रहे। उन पर अब तक 11 महिला पत्रकारों ने #MeToo कैंपेन के तहत गंभीर आरोप लगाए हैं।
अकबर पर पहला आरोप प्रिया रमानी नाम की वरिष्ठ पत्रकार ने लगाया था, जिसमें उन्होंने एक होटल के कमरे में इंटरव्यू के दौरान की अपनी कहानी बताई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *