sterilization operation
INDIA NEWS मध्य प्रदेश

विदिशा में फिर से लापरवाही, नसबंदी ऑपरेशन के बाद महिलाओं को जमीन पर लिटाया

विदिशा। मध्यप्रदेश के विदिशा जिले में स्वास्थ्य विभाग का बेहद ही लापरवाह और अमानवीय चेहरा दोबारा सामने आया है,जहां एक तरफ प्रदेश की कमलनाथ सरकार राइट टू हेल्थ की बात कर रही है वहीं दूसरी तरफ विदिशा जिले का स्वास्थ्य विभाग अपनी गैरजिम्मेदाराना करतूतों से बाज नहीं आ रहा है, ताजा मामला विदिशा जिला मुख्यालय से तकरीबन 90 किलोमीटर दूर लटेरी के स्वास्थ्य केंद्र का है जहां शनिवार को महिला नसबंदी शिविर का आयोजन किया गया था और इस दौरान 37 महिलाओं ने नसबंदी का ऑपरेशन भी कराया था लेकिन ऑपरेशन के तत्काल बाद ही उन महिलाओं को अस्पताल परिसर में ही फर्श पर लिटा दिया गया।

उन महिलाओं को एक बेड तक नसीब नहीं हो सका, ठंड के मौसम में नसबंदी का ऑपरेशन करवाने वाली महिलाओं को संक्रमण फैलने के खतरे को पूरी तरह से नजरअंदाज किया गया। जहां एक तरफ स्वास्थ्य महकमे द्वारा नसबंदी को लेकर समाज में जागरूकता लाने एवं प्रोत्साहित करने की बातें की जाती है और भारी-भरकम बजट भी जारी किया जाता है वहीं दूसरी तरफ विदिशा की यह घटना की तस्वीरें स्वास्थ्य विभाग के बेहद लापरवाह रवैये को उजागर करने के साथ-2 शर्मसार भी करती है।

जब विदिशा के प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी(CMHO) डॉ. के एस अहिरवार को जब इस गंभीर मामले के बारे में जानकारी दी गई तो उन्होंने कहा कि- वो इस पूरे मामले की जाँच करवाएंगे और दोषियों पर कार्यवाही करेंगे। शनिवार रात को विदिशा कलेक्टर,कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने इस मामले के बारे में हमसे फोन पर बात करते हुए कहा कि उन्होंने दोबारा हुए मामले में गंभीरता से संज्ञान लिया है। इस मामले की जांच के आदेश जारी कर दिए गए हैं और लटेरी बीएमओ डॉ. नरेश बघेल को तत्काल प्रभाव से पद से हटा दिया गया है।
रिपोर्ट- ओमप्रकाश जोशी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *