Ban On Muslim
News_Special मध्य प्रदेश

गणतंत्र दिवस विवाद: राजगढ़ में पुलिस को मिले पत्र, मुस्लिम विक्रेताओं पर लगाया प्रतिबंध

राजगढ़। मध्य प्रदेश के राजगढ़ के खुजनेर में गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान दो पक्षों में हुए विवाद ने अब नया मोड़ ले लिया है। पुलिस को कई गांवों से भेजे गए पत्र मिले हैं। इनमें किसी भी मुस्लिम विक्रेता को गांव में प्रवेश न करने के लिए कहा गया है, साथ ही यह धमकी भी दी गई है कि अगर कोई ऐसा करेगा तो वह जिम्मेदार होगा, हम इसके जिम्मेदार नहीं होंगे। पत्र मिलने के बाद पुलिस अलर्ट हो गई है। आपको बता दें कि गणतंत्र दिवस के मौके पर खुजनेर में एक सांस्कृतिक समारोह का आयोजन किया गया था। इस कार्यक्र में स्कूली बच्चे भी शमिल हुए। इस दौरान स्कूली बच्चे गदर फिल्म के एक गाने पर डांस कर रहे थे, इसी दौरान कुछ उपद्रवियों ने देश विरोधी नारे लगाए। इसके बाद विवाद बढ़ता गया, जहां कार्यक्रम हो रहा था, वहां पर भगदड़ मच गई।

कुछ उपद्रवियों ने कुर्सियों की तोड़फोड़ की थी। विवाद इसलिए बढ़ा, क्योंकि सम्मेलन में शामिल कुछ लोगों ने आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। आरोप है कि विशेष संप्रदाय के लोग हथियार लेकर कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे वहां डांस कर रहे बच्चों पर भी हमला किया। जिससे कई बच्चे घायल भी हो गए। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने इलाके में धारा 144 भी लागू कर दी। मामले में 16 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई। जिसमें दोनों पक्षों के लोग शामिल थे। इन सभी पर दंगा भड़काने का आरोप था। 6 लोगों को पुलिस ने मामले में गिरफ्तार भी कर लिया। भाजपा नेताओं ने पुलिस को एक ज्ञापन दिया। जिसके बाद, इनपर राजद्रोह का मामला दर्ज किया गया।

पढ़ें: मध्य प्रदेश में कर्जमाफी में बड़ा घोटाला, 20 साल पहले मरे किसानों पर दिखाया करोड़ों का कर्ज

घटना के बाद पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुजनेर में गणतंत्र दिवस पर हिंसा के शिकार हुए बच्चों से मिले। उन्होंने घटना पर विरोध जताया और कहा कि यह मध्यप्रदेश की संस्कृति नहीं है, ऐसी अराजकता को कतई बर्दाश्त नहीं होगी। दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाए।  वहीं, इस मामले में खुजनेर पुलिस ने कहा कि उन्हें ऐसे कई लेटर मिल रहे हैं, पुलिस ने मुस्लिम विक्रेताओं के प्रतिबंध पर कहा कि सभी को कहीं भी काम करने का अधिकार है, संविधान में इस तरह के प्रतिबंध की मंजूरी नहीं है। कोई भी किसी को कोई बिजनेस करने से नहीं रोक सकता।

रिपोर्ट: अमित सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *