Vikas Dubey
मध्य प्रदेश स्पेशल न्यूज़

हत्यारे विकास दुबे का चौंकाने वाला खुलासा, बताया क्यों जलाना चाहता था पुलिसकर्मियों के शव

उज्जैन। कानपुर एनकाउंटर (Kanpur Encounter)के बाद फरार कुख्यात विकास दुबे (Vikas Dubey ) ने सातवें दिन मध्यप्रदेश के उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर में आत्मसमर्पण किया। गिरफ्तारी के बाद विकास से मध्यप्रदेश पुलिस (Madhya Pradesh Police) ने आठ घंटे तक पूछताछ की। इस दौरान उसने कई चौंकाने वाले खुलासे किए। उसने वारदात वाली रात की कहानी बताई। विकास ने पुलिस को बताया कि घटना के बाद घर के ठीक बगल में कुएं के पास पांच पुलिसवालों की लाशों को एक के ऊपर एक रखा गया था जिससे उनमें आग लगाकर सबूत मिटाने की योजना थी।

उसने कहा कि पुलिसकर्मियों के शव जलाने के लिए तेल लाए थे। लेकिन शव इकट्ठे करने के बाद उसे मौका नहीं मिला। उसने खुलासा किया कि हमें खबर थी पुलिस सुबह आएगी, लेकिन पुलिस सुबह की बजाय रात में ही दबिश देने आ गई। मैंने सभी साथियों को अलग-अलग भागने को कहा था। उसने बताया कि एनकाउंटर के डर से फायरिंग की थी। पूछताछ में उसने खुलासा किया कि चौबेपुर के अलावा कई थानों में मेरे मददगार थे। उसने बताया कि लॉकडाउन के दौरान चौबेपुर थाने के तमाम पुलिसवालों का मैंने बहुत ख्याल रखा, सबको खाना पीना खिलाना और दूसरी मदद भी करता था।

यह भी पढ़ें: यूपी में कल रात 10 बजे से 13 जुलाई की सुबह 5 बजे तक रहेगा संपूर्ण लॉकडाउन

उन्होंने कहा कि-विकास ने पूछताछ में खुलासा किया है कि सीओ देवेंद्र मिश्र से उसकी जमती नहीं थी। सीओ ने उसे देख लेने की धमकी दी थी, इसलिए उसकी हत्या की। कुख्यात अपराधी विकास दुबे पर गुरुवार की शाम को उज्जैन पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उज्जैन के एसपी मनोज कुमार सिंह ने बताया कि कानपुर गोलीकांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे को मध्यप्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार किया है। विकास ने महाकाल मंदिर में 250 का टिकट लिया। उसने शुरुआत में अपनी पहचान छिपाई थी।

उन्होंने बताया कि विकास दुबे को यूपी पुलिस को सौंप दिया है। उज्जैन में विकास के खिलाफ केस दर्ज नहीं किया गया है। उन्होंने बताया कि जिस दुकान से विकास ने फूल और प्रसाद लिया उसी दुकानदान ने पुलिस को सूचना दी। कानपुर पुलिस से कई बार बात हुई है। उज्जैन पुलिस की पारदर्शी कार्रवाई है।

यह भी पढ़ें: कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद पत्नी और बेटा भी गिरफ्तार, STF ने लखनऊ में पकड़ा

आपको बता दें कि कानपुर के बिगरू में दो जुलाई की रात को कुख्यात विकास दुबे और उसके साथियों ने आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी। हत्या की वारदात को अंजाम देने के बाद विकास और उसके साथी अलग-अलग दिशा में फरार हो गए थे। विकास इस दौरान यूपी-हरियाणा और राजस्थान की सीमा को पार करते हुए मध्य प्रदेश के उज्जैन से गुरुवार सुबह गिरफ्तार किया गया है।
रिपोर्ट: तंजीम राणा

Leave a Reply

Your email address will not be published.