Loco engine factory
News_Special मध्य प्रदेश

सुषमा स्वराज का टूट गया सपना, विदिशा में नहीं लग पाएगी लोको इंजन बनाने की फैक्ट्री

विदिशा। सांसद रहते हुए सुषमा स्वराज ने विदिशा में बड़े उद्योग के रूप में रेलवे के लोकोमोटिव इंजन के अल्टरनेटर के निर्माण की फैक्ट्री लगाए जाने की घोषणा की थी। बड़े जोर-शोर से इसका शिलान्यास भी किया गया। तत्कालीन रेल मंत्री सुरेश प्रभु, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कार्यक्रम में शामिल हुए थे।

आज फैक्ट्री का ढांचा बनकर तैयार हुए लंबा वक्त बीत चुका है, लेकिन उत्पादन शुरू भी नहीं हो पाया। भोपाल डीआरएम के ताजा बयान से ऐसा लगता है कि जिस उद्देश्य से इस कारखाने की नींव रखी जा रही थी, अब वह यहां नहीं बन पाएगा। हाल ही में नागपुर से भोपाल डीआरएम के रूप में पदस्थ किए गए उदय बोनबनकर ने अपनी बातचीत के दौरान यह बात कही।

उन्होंने कहा कि रेलवे की नई नीति के अनुसार, लोको इंजन के निर्माण की प्रक्रिया बंद हो चुकी है, इसलिए लिहाज से गेहूं खेड़ी विदिशा में बनने वाले अल्टरनेटर की भी जरूरत अब नहीं होगी। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इस फैक्ट्री में रेलवे अन्य कोई उत्पादन कार्य कर सकती है, अगर डीआरएम भोपाल की बात पर गौर किया जाए तो सुषमा स्वराज के एक बड़े वादे का बंटाधार विदिशा में हुआ है। विदिशा की जनता एक बार फिर अपने आप को ठगा सा महसूस कर रही है।

रिपोर्ट: ओम प्रकाश जोशी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *