evm security
News_Special मध्य प्रदेश

मध्यप्रदेश: कांग्रेस की शिकायत पर EC का जवाब, ‘EVM स्ट्रांग रूम में ब्लैकआउट से बंद हुए कैमरे’

भोपाल। ईवीएम मशीनों में छेड़छाड़ किए जाने की कांग्रेस की शिकायत को चुनाव आयोग ने माना है कि छेड़छाड़ नहीं हुई है, लेकिन अधिकारियों की थोड़ी लापरवाही जरुर देखने को मिली है। दरअसल, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ चुनाव के कांग्रेस ने आयोग से शिकायत की थी कि मशीनों से छेड़छाड़ की गई है। इस पर चुनाव आयोग का जवाब आया है। चुनाव आयोग का कहना है कि ऐसी दो घटनाएं हुईं हैं, जिसमें ईवीएम को लेकर नियमावली का पालन नहीं किया गया। लेकिन आयोग का कहना है कि यह गलती प्रक्रिया तक ही सीमित है और मशीनों से कोई छेड़छाड़ नहीं की गई।

आपको बता दें कि भोपाल में एक स्ट्रांग रूम में 30 नवंबर को बिजली गुल हो गई थी, जिसके बाद ब्लैकआउट हो गया था। इस वजह से स्ट्रांग रूम का सीसीटीवी और एलईडी डिस्प्ले भी बंद हो गया था। इस घटना के अलावा कांग्रेस ने मध्यप्रदेश के एक निजी होटल में ईवीएम मशीन और सागर जिले में बिना नंबर की स्कूल बस से स्ट्रांग रूम में ईवीएम पहुंचाए जाने का वीडियो जारी किया। इस वीडियो में कांग्रेस ने आरोप लगाया कि भाजपा मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में चुनाव परिणाम प्रभावित करने की कोशिश में है।

अब चुनाव आयोग ने बयान जारी किया है जिसमें कहा गया है कि भोपाल कलेक्टर से मिली एक रिपोर्ट में जिक्र किया गया है कि बिजली आपूर्ति बाधित होने के चलते 30 नवंबर को सुबह 8.19 बजे से 9.35 बजे तक स्ट्रांग रूम में सीसीटीवी कैमरे और एलईडी डिस्प्ले बंद थीं, इसकी वजह से इस अवधि के दौरान रिकॉर्डिंग नहीं हुई। अब एक अतिरिक्त एलईडी स्क्रीन, एक इंवर्टर और एक जनरेटर लगातार बिजली की आपूर्ति के लिए लगाए गए हैं। इसके अलावा बुधवार को हुए मतदान से 48 घंटे बाद ईवीएम से भरी एक बिना नंबर प्लेट की बस सागर जिला कलेक्टर दफ्तर पहुंचीं। यह मशीनें मध्यप्रदेश के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह के खुरई विधानसभा क्षेत्र से आई थीं।

हालांकि शुक्रवार को चुनाव आयोग ने कहा था कि यह आरक्षित श्रेणी की मशीने थीं, जिन्हें बैक अप के लिए रखा गया था। लेकिन शनिवार को आयोग ने एक अधिकारी को मशीनें देरी से जमा कराने के आरोप में नायब तहसीलदार राजेश मेहरा को निलंबित कर दिया था। वहीं, वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल शनिवार को चुनाव आयोग से मिला। प्रतिनिधिमंडल ने स्ट्रांग रूम के अंदर बंद ईवीएम की सुरक्षा संबंधी चिंता जताई।

वहीं ईवीएम मशीनों के साथ छेड़छाड़ की आशंका से कांग्रेस और आम आदमी पार्टी कार्यकर्ता शुक्रवार से भोपाल की पुरानी जेल में स्ट्रांग रूम के बाहर गश्त कर रहे हैं। मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने अपनी पार्टी के उम्मीदवारों को चुनाव नतीजे की तारीख 11 दिसंबर तक ईवीएम की निगरानी करने की अपील की है।

रिपोर्ट: अमित सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *