News_Special मध्य प्रदेश

एनआरसी पर शरद यादव का केंद्र पर हमला, बोले- ‘इस सरकार के रहते इंसाफ नहीं होगा’

लोकतांत्रिक जनता दल के नेता शरद यादव ने असम के नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन पर बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि एनआरसी घोषित करने से पहले सरकार को सभी दलों के साथ विचार विमर्श करना था और कोई ‘सर्वसम्मत रास्ता’ निकालना था।

उन्होंने कहा कि असम की समस्या पर सर्वदलीय बैठक बुलानी चाहिए थी, इसके बाद सरकार को इसके हल के लिए कोई सर्वसम्मत रास्ता तलाशना था।

शरद यादव ने कहा कि ये मेरा मानना है कि असम मामले का लोकतंत्र पर बड़ा असर हुआ है, उसका न्याय संगत तरीके से हल निकालना चाहिए। सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि ऐसा लगता नहीं है कि इस सरकार के रहते इंसाफ होगा।

शरद यादव ने कहा कि भारतीय उपमहाद्वीप में कई लोग यहां आए और यहां से गए। यहां तिब्बत के लोग आए। जब देश का बंटवारा हुआ था तो उस दौरान कितने बांग्लादेशी यहां आए और कितने यहां से बांग्लादेश चले गए।

पाकिस्तान बना तो कितने लोग यहां से गए थे, वहां वो मुहाजिर कहलाए। उन्होंने कहा कि अफसोस इस पर है संसद में ठीक से बहस नहीं हो रही।

इस दौरान उन्होंने अगले चुनाव में पार्टियों के प्रस्तावित महागठबंधन को लेकर भी बयान दिया। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कांग्रेस पहले ही कह चुकी है कि उसका पहला लक्ष्य साल 2019 में होने वाले आम चुनाव में भाजपा को सत्ता में आने से रोकना है।

इस समय देश का संविधान और लोकतंत्र बचाना है, किसी भी अन्य मुद्दे से ज्यादा अहम यह मुद्दा है। आज हमें लोकतंत्र को बचाना है, जैसे 1977 में बचाया था। उस समय घोषित आपातकाल था, लेकिन इस समय देश में अघोषित आपातकाल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *