मध्य प्रदेश स्पेशल न्यूज़

फांसी की सजा दिलाने वाले अधिकारियों का सम्मान, सीएम बोले-मानवाधिकार मानव के लिए, पिशाचों के लिए नहीं

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पुलिस अधिकारियों को सम्मानित किया। शुक्रवार को हुए सम्मान समारोह में उन अधिकारियों को सम्मानित किया गया जिनकी कार्रवाई और सटीक जांच से रेप के आरोपियों को फांसी की सजा हुई।
सीएम निवास में इस सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। सम्मान समारोह में मध्य प्रदेश पुलिस के डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला भी मौजूद रहे। कार्यक्रम में महिलाओं और बच्चियों के साथ जघन्य अपराधों में असाधारण जांच करने वाले डीआईजी, फोरेंसिक अधिकारी, पुलिस कांस्टेबल और अभियोजन अधिकारियों का सम्मान हुआ।

कार्यक्रम में सागर, शहडोल, ग्वालियर, मंदसौर, दमोह, इंदौर, सतना और धार के अधिकारियों का सम्मान किया गया। कार्यक्रम में बोलते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि जो बेटियों के साथ ऐसा गलत काम करेगा, उसे फांसी की सजा ही मिलेगी।

रेप के आरोपियों को लेकर सीएम शिवराज ने कहा कि दरिंदों के लिए मानवाधिकार का कोई मतलब नहीं होता। मानवाधिकार तो मानव के लिए है, पिशाचों के लिए नहीं।

शिवराज ने पुलिसकर्मियों की तारीफ करते हुए कहा कि दरिंदों को फांसी की सजा दिलाने में पुलिस की टीम ने अहम योगदान दिया।

शिवराज ने कहा कि भारत में बेटियों की पूजा होती है, उनका सम्मान करते हैं। यदि बेटियों के साथ कुछ गलत होता है तो मन को बड़ी ठेस पहुंचती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.