Ashok Gehlot
News_Special चुनाव राजनीति राजस्थान

विधायकों की खरीद-फरोख्त हुई, हमारे पास सबूत, डिप्टी सीएम खुद कर रहे डील: गहलोत

जयपुर। राजस्थान में सीएम की कुर्सी को लेकर सियासी घमासान जारी है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Rajasthan Chief Minister Ashok Gehlot ) ने बागी सचिन पायलट (Sachin Pilot) पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि जयपुर में विधायकों की खरीद-फरोख्त की जा रही थी, हमारे पास इसके सबूत हैं। हमें विधायकों को एक होटल में 10 दिनों के लिए रखना पड़ा, अगर हमने ऐसा नहीं किया होता तो मानेसर में जो हो रहा था वही यहां हो सकता था।

सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि हमारे कुछ साथी भाजपा के जाल में फंस चुके हैं। उन्हें पैसे का लालच दिया गया है। उन्होंने आगे कहा कि राजनीति में खरीद-फरोख्त ठीक नहीं है। ये लोकतंत्र के लिए खतरा है। इस दौरान उन्होंने भाजपा पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि दिल्ली में लोकतंत्र को खत्म करने वाले लोग बैठे हैं। उन्होंने जैसा अन्य राज्यों में किया है, वैसा ही राजस्थान में भी दोहराना चाहते हैं।

सीएम गहलोत ने कहा कि हमारी सरकार को गिराने की साजिश रची जा रही है। दिल्ली में बैठे कुछ लोग कर्नाटक और मध्यप्रदेश में जैसा राजस्थान में भी करना चाहते हैं। सीएम गहलोत ने कहा कि हमारे विधायकों को पैसे का लालच दिया गया, ताकि वे उनकी पार्टी में शामिल हो जाएं और हमारी सरकार गिर जाए। उनके पास धन-बल की कमी नहीं है। उन्होंने यह साफ शब्दों में कह दिया कि जो हमारे साथ नहीं है वो पैसे ले चुका है।

यह भी पढ़ें: रिलायंस इंडस्ट्रीज की बड़ी घोषणा, जियो और गूगल बनाएंगे सस्ते स्मार्टफोन

इस दौरान सीएम गहलोत ने खुलकर बागी सचिन पायलट पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जो लोग सरकार गिराने के लिए षड्यंत्र में शामिल हैं, वही लोग सफाई दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारे यहां उपमुख्यमंत्री खुद ही डील कर रहे हैं। सरकार के खिलाफ षड्यंत्र में उपमुख्यमंत्री खुले रूप से शामिल हैं।

इस दौरान गहलोत ने कहा कि मैं 40 साल से राजनीति में हूं, हम नई पीढ़ी से प्यार करते हैं, भविष्य उनका होगा। यह नई पीढ़ी के लोग केंद्रीय मंत्री और राज्य के अध्यक्ष बने, यदि वे हमारी स्थिति से गुजरे होते तो समझ जाते। उन्होंने कहा कि अच्छी अंग्रेजी बोलना, अच्छी बाइट देना और खूबसूरत होना सब कुछ नहीं है। देश के लिए आपके दिल में क्या है, आपकी विचारधारा, नीतियां और प्रतिबद्धता, सब कुछ मायने रखता है।

रिपोर्ट: तंजीम राणा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *