INDIA NEWS धर्म

पीएम नरेंद्र मोदी ने किया ऋषि मुनियों की वाणी को उजागर, जानिए क्या हुई है खोज

नई दिल्ली।आप सभी को जानकर खुशी होगी कि हमारे देश के प्रधानमंत्री ने पहले के ऋषि मुनियों की वाणी को उजागर किया है,जो कुछ धर्म के महान मठाधीश (कुगुरुओ,,)लोगों ने हमारे ऋषि-मुनियों के सत्य को दबा दिया था  । हमने कुछ किताबों को कुछ ध्यान  गुरुओं पर खोज की है लेकिन पहले गुरुओं के अनुसार और हमारी भगवत गीता के अनुसार सभी फेल नजर आए। योग का मतलब सभी ऋषि-मुनियों ने और हर ग्रंथ में जैसे भगवत गीता बाइबल कुरान और गुरु ग्रंथ साहिब में आत्मा साक्षात्कार सेल्फ रिलाइजेशन देकर योग  प्रपात होता है ।पहले ऋषि मुनि बच्चों को 10 साल अपने आश्रम में रखकर आत्म साक्षात्कार देते थे, और उन में  ध्यान के द्वारा संस्कार डालते थे। जैसा की रामायण में गुरु  वशिष्ठ ने  श्री राम और श्री लक्ष्मण जी को कुंडली जागरण द्वारा आत्मसाक्षात्कार या ये कहै कि आत्मा की अनुभूति करवाई थी,   हमने सभी ध्यान योगियों के पास जाकर इस बात पर चर्चा की मुझे आत्मानुभूति करवा दीजिए। लेकिन सभी ने एक ही उत्तर दिया हम आसन योग   करवाते हैं और किसी भी बीमारी की गारंटी नहीं देते और ना ही आत्मसाक्षात्कार करा सकते हैं। इसके बाद हम सहज योग पहुंचे वहां एक साधारण इंसान बैठे हुए थे ,और माइक पर बोल रहे थे कि आत्मसाक्षात्कार 5 मिनट में होता है लेकिन  सिद्ध गुरु के द्वारा हो सकता है जिसके पास आत्मानुभूति होती है , वह इस कार्य को निशुल्क करवाता है तो तभी आत्मा के अनुभूति हो जाती है ।

फिर ना तो सिद्ध गुरु किसी दवाई को इस्तेमाल करेगा और ना उनके शिष्य  उनके शिष्य, ध्यान और मंत्रों द्वारा अलग-अलग बीमारियों को ठीक करते हैं ।जिसमें मैंने अपने आप को भी ठीक किया और जो मेरे अंदर परेशानियां और समस्याएं थी वह दूर हो गई है ।हम आज श्री नरेंद्र मोदी जो हमारे देश के प्रधानमंत्री है आप सभी मीडिया को अनुरोध करते हैं कि इस कोविड-19  जैसी  महामारी  पर सभी मरीज अपने घर पर बैठकर इस पद्धति को अपनाकर अपने आप को ठीक कर सकते हैं  और परिवार के सदस्य इस पद्धति द्वारा ठीक कर सकते हैं सहजयोग पद्धति में कोई भी दवाई और पैसे की जरूरत नहीं है यह बिल्कुल निशुल्क है केवल एक सद्गुरु की आवश्यकता है  यह कोई भी हो सकता है  चाहे वह स्त्री, बच्चा, या पुरुष ही क्यों ना हो अगर ऐसे इंसान की जरूरत है तो इन नंबरों पर हमें सूचित करें।

डॉक्टर आईएस बंसल 9999159007,
मनप्रीत 9910065425,
Dr. जीवन सैनी ,9811389305

अलका  9464006988 इस पद्धति मैं केवल पांच तत्व और अपने शरीर की सकारात्मक ऊर्जा का इस्तेमाल किया जाएगा। और इसे आध्यात्मिक और साइंटिफिक  सिद्ध किया जाएगा इस पद्धति को करने से भविष्य में किसी भी वायरस को जैसे आज  की समस्या है करोना वायरस और तरह-तरह के वायरस से इंसान अपने आप को कभी भी सुरक्षित रख सकता है दूसरों को भी सुरक्षित रखेगा ।ऐसा इंसान साधारण कपड़ों में ही मिलेगा उसके अंदर किसी भी तरह का दिखावा आडंबर या पाखंड नहीं होगा।इस पद्धति द्वारा हम यह भी जान सकते हैं  किस मंदिर  मस्जिद गुरुद्वारा चर्च  जाने से बीमारियां आती है और किस मैं जाने से लाभ होगा। और  किस मंत्र लेने से बीमारी की शुरुआत होगी और किस मंत्र के नाम लेने से बीमारी खत्म होगी। कौन सा इंसान बेईमान है और कौन इमानदार, कौन सी किताब  पिक्चर  पढ़ने या देखने से कोई मंत्र लेने से बीमारी लगती है।

किस चीज को देखने से ठीक होती है यह भी प्रूफ करेगा अपनी सकारात्मक ऊर्जा से, सहज योग की सहज योग की पद्धति में एक विशेष बात है की इस पद्धति को करने से फायदा सबको होगा लेकिन पर प्रवीण सद्गुरु हजारों में एक या दो ही हो पाते हैं। क्योंकि इसमें तपस्या करनी पड़ती है जैसे सच बोलना, बुरा नहीं बोलना बुरा नहीं देखना बुरा ना सुनना और निशुल्क ही कराना पड़ता है।ऐसा सद्गुरु पूरी दुनिया में जहां भी हो हमारी टीम उसको मीडिया और सरकार के सामने सम्मानित करना चाहेगी।

यह भी पढ़ें: CBSE बोर्ड 10 और 12वीं क्लास का रिजल्ट करेगा जारी

 

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी और सभी मीडिया से प्रार्थना है कि इस सहज योग पद्धति को हर इंसान तक पहुंचाएं जिससे भविष्य में हमारा देश आर्थिक मंदी से उभरे और विश्व गुरु बने करप्शन और अपराध समाप्त हो गंदी राजनीति समाप्त हो इस पद्धति द्वारा जज सही जजमेंट करेगा अपनी सकारात्मक ऊर्जा  (positive energy) द्वारा 15 मिनट में बता देगा कौन सही है कौन गलत ,और ऐसे केस लंबे नहीं चलेंगे इस पद्धति से किसानों की फसल प्राकृतिक आपदाओं से बचेंगे और उद्योग प्रणाली में सकारात्मक ऊर्जा  ज्यादा होगी और इस सहज योग पद्धति से और भी बढ़ती जाएगी।हम आपसे अनुरोध करते हैं कि इस पद्धति से सब को अवगत कराएं सहयोग जिससे पूरा संसार को लाभ हो

 

रिपोर्ट: तंजीम राणा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *