News_Special उत्तर प्रदेश

प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू की हुई झड़प,पुलिस ने हिरासत में लिया

लखनऊ। कांग्रेस पार्टी की ओर से अल्पसंख्यक विभाग के चैयरमैन शाहनवाज आलम की गिरफ्तार को लेकर कड़ी निंदा की जा रही है. कांग्रेस ने पुलिस पर आरोप लगाया है कि कुछ सादी वर्दी में पुलिस वाले ने शाहनवाज को अगवा किया. बाद में उनकी गिरफ्तारी की कोई भी जानकारी साझा नहीं की गई. इतना ही नहीं उत्तर प्रदेश कांग्रेस कार्यालय से विरोध दर्ज कराने जा रहे प्रदेश अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू और आराधना मिश्रा मोना समेत सैकड़ों कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. इस दौरान पुलिसकर्मियों और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में धक्का- मुक्की हो गई. गिरफ्तारी के बाद मामला ज्यादा गर्मा गया तो शाम 4 बजे पुलिस ने सभी को छोड़ दिया.

प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने जारी बयान में कहा कि- पूरे प्रदेश में भाजपा सरकार दमन का चक्र चला रही है। आए दिन पुलिस के दम पर लोकतंत्र को कुचला जा रहा है ।अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज़ आलम की देर रात गिरफ़्तारी अवैध , अलोकतांत्रिक और निंदनीय है। कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता जनता के मुद्दों पर आवाज उठाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। भाजपा सरकार यूपी पुलिस को दमन का औज़ार बनाकर दूसरी पार्टियों को आवाज उठाने से रोक सकती है, हमारी पार्टी को नहीं। यह पुलिसिया कार्रवाई दमनकारी और आलोकतांत्रिक है।

कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा मोना ने इस पुलिसिया राज की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि- यह योगी आदित्यनाथ की सरकार का राजनीतिक दुश्मनी और कायरता भरा कदम है। सरकार विपक्ष की आवाज़ की दबाना चाहती। कांग्रेस के बढ़ते प्रभाव से योगी सरकार की बौखलाहट साफ- साफ दिख रही है।

गौरतलब है कि ,शाहनवाज आलम को पुलिस ने सीएम आवास के पास से गोल्फ लिंक अपार्टमेंट्स के गेट से गैर- कानूनी रूप से उठा लिया गया. ‘साथ ही लगभग घण्टे भर उनकी गिरफ्तारी जानकारी नहीं दी गई. कांग्रेस अनुसूचित विभाग कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष तनुज पुनिया के हवाले से कहा गया कि- सत्ता पोषित दमन से हम कां-ग्रेस राहुल-प्रियंका के सिपाही डरेंगे नहीं, सड़क पर संघर्ष करेंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में संघर्ष की लम्बी और शानदार परंपरा रही है, लोकतंत्र को बचाने के लिए दलित-पिछड़ा विरोधी योगी सरकार के खिलाफ अब हम सड़कें गरम करेंगे।

उन्होंने कहा इलाहाबाद विश्वविद्यालय के लोकप्रिय छात्रनेता रहे और दलितों-वंचितों के लड़ाई लड़ने वाले यूपी अल्पसंख्यक कांग्रेस के चेयरमैन शाहनवाज़ आलम की असंवैधानिक गिरफ्तारी योगी आदित्यनाथ की सरकार को बहुत महंगी पड़ेगी।

कल रात हजरतगंज कोतवाली पहुंचे कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने बर्बरतापूर्वक लाठीचार्ज किया जिसमें महासचिव मनोज यादव, अभिमन्यु सिंह, शिवम तिवारी, तारिक, राजेश सिंह काली समेत दर्जनों कार्यकर्ता जख्मी हुए। कांग्रेस पार्टी इस बर्बर दमन का निंदा करती है। प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और आराधना मिश्रा मोना के साथ प्रदेश उपाध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी, पूर्व विधायक रामसिंह, प्रशासन प्रभारी दिनेश सिंह, महासचिव विश्वविजय सिंह, मनोज यादव, लखनऊ प्रभारी सचिव रमेश शुक्ला, शहर अध्यक्ष मुकेश चौहान.

रिपोर्ट- तंजीम राना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *